Share Market in Hindi

भारत में 2 प्रतिशत से भी कम लोग ऑनलाइन ट्रेडिंग में रूचि रखते है। हमारे देश में बहुत कम लोग ही Share Market in Hindi में समझना चाहते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि शेयर बाजार के बारे में लोगों के बीच काफी मिथक है।

जैसे ही आप लोगों से शेयर market की बात लोगों से करते है , लोग इसे सट्टा बाजार से जोड़ देते हैं । जबकि कुछ लोगों को शेयर बाजार एक मुश्किल सब्जेक्ट लगता है।

इसलिए, एक स्टॉक मार्केट वेबसाइट होने के नाते हमारा फ़र्ज़ बनता है कि हम अपने सभी पाठकों को इन मिथक के बारे में स्पष्ट करें।

इस पोस्ट में, हम आपके साथ Share Market in Hindi के सभी कॉन्सेप्ट को बहुत ही सरल और आसान तरीके से समझाने का प्रयत्न करेंगे। ताकि आपके मन में स्टॉक मार्केट से लेकर कोई भी भ्रम न हो और आप निश्चिंत होकर शेयर बाजार में निवेश कर पाएं।
[wpdatatable id=1]

Table of Contents

About Share Market in Hindi

शेयर बाजार – एक ऐसा बाजार है जहां विभिन्न व्यक्तियों, संस्थानों और निगमों द्वारा शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं।ये शेयर अलग-अलग कंपनियों के होते हैं जो शेयर बाजार में विभिन्न एक्सचेंज पर लिस्टेड होते हैं।

“शेयर” शब्द का उपयोग किसी एक कंपनी या फर्म की हिस्सेदारी को दर्शाने के लिए करते हैं और बाजार उस स्थान को कहते हैं जहां खरीद-बिक्री या लेन-देन होती हैं।

इस खरीद-बिक्री को आम भाषा में ट्रेडिंग भी कहते है।

चलिए Share Market in Hindi को और आसान कर देते हैं।

Share Market History in Hindi 

भारत में शेयर मार्केट की शुरआत 18 वीं शताब्दी के आसपास शुरू हुई थी।

उस समय कुछ ट्रेडर मुंबई के टाउन हॉल के सामने एक बरगद के पेड़ के नीचे ट्रेडिंग की शुरुआत की थी।

ये कुछ ट्रेडर तब कॉटन का व्यापर करना शुरू किया था।

चूँकि, मुंबई एक व्यस्तम ट्रेडिंग पोर्ट था और ज्यादातर आवश्यक कमोडिटी का लेनदेन यही से होता था। लगभग दो दशक बाद ब्रोकर की संख्या बढ़ने लगा और फिर दलाल स्ट्रीट में एक ट्रेडर का ग्रुप बनाया गया। इस ग्रुप का नाम द नेटिव शेयर एंड स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन” दिया गया।

इसके बाद निरंतर बदलाव किये गए और 1956 में पहला मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज अस्तित्व में आया।  1986 में, बीएसई स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना हुई जो 30 स्टॉक का एक एक एक्सचेंज है।

वर्तमान में, बीएसई दुनिया 10 वां सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है।

Share Market Basics in Hindi

अगर आप शेयर मार्केट (Share Market in Hindi) की मूलभूत बातों को समझना चाहते हैं तो शुरुआत अपने सेविंग अकाउंट के प्रबंधन से करना होगा।

चूँकि, शेयर बाजार में लाभ और जोखिम दोनों शामिल हैं, इसलिए अपने मेहनत की जमा-पूँजी को मैनेज करना आना चाहिए।यदि आप शेयर बाजार में प्रवेश करने की योजना बना रहे हैं तो आपको यह ध्यान में रखना होगा की शेयर बाजार कुछ निर्धारित नियम, जोखिम, रिटर्न और बाहरी कारकों पर निर्भर करता है।

साथ ही आपको निवेश करने का उद्देश्य, रिटर्न की संभावना, जोखिम लेने की क्षमता, बाजार की समझ, ब्रोकर पर निर्भरता का स्तर जैसी महत्वपूर्ण बातों को जरूर नोट करना चाहिए।

इसके अलावा, आपको शेयर बाजार में निवेश से संबंधित उतार-चढ़ाव (Volatility) को समझने की आवश्यकता है।

उदाहरण के लिए, शेयर बाजार रियल एस्टेट, फिक्स्ड डिपॉजिट (FD), गोल्ड में निवेश आदि की तुलना में अधिक वोलेटाइल/अस्थिर है।

चलिए अब Types of Share Market in Hindi की तरफ बढ़ते हैं।

शेयर मार्केट में निवेश करने का पहला नियम यह होता है कि आपके पास शेयर मार्केट अकाउंट होना चाहिए और अगर आप भी इस बात की जानकारी लेना चाहते है की शेयर मार्किट में अकाउंट कैसे खोले तो ये आर्टिकल आपकी मदद करेगा

[wpdatatable id=1]

Types of Share Market in Hindi

Types of Share Market in Hindi
Source:- Samco securties

शेयर मार्केट में दो अलग-अलग प्रकार के बाजार हैं:

  • प्राइमरी शेयर मार्केट
  • सेकेंडरी शेयर मार्केट

Secondary Market – प्रायमरी मार्केट में शेयर बेचे जाने के बाद में वे शेयर्स सेकेंडरी मार्केट में ट्रेडिंग के लिए उपलब्ध हो जाते हैं। सेकेंडरी मार्केट में बिना फर्स्ट issuer के शेयर खरीदे-बेचे जाते हैं।

[wpdatatable id=1]

उदाहरण के लिए आपको SBI के शेयर खरीदने हैं तो आप सीधे SBI के पास नहीं जाएंगे। आप अपने स्टॉक ब्रोकर के माध्यम से अपनी बिड (BID) लगाएंगे। आपकी बिड प्राइस पर जब भी कोई seller मिलेगा तो आपको shares मिल जाएंगे। सेकेंडरी मार्केट में शेयर या स्टॉक की प्राइस पर कंपनी का कोई हस्तक्षेप नहीं होता।

इसे भी पढ़ेंः– Father Quotes in Hindi

इसे भी पढ़ेंः– Truth of Life Quotes in Hindi

शेयर मार्केट कैसे काम करता हैं? How does Share Market works

How does Share Market works
How does Share Market works

हम में से अधिकांश लोग शेयर मार्केट से भयभीत रहते हैं और इसे समझने में बहुत कठिनाई महसूस करते हैं। परंतु जब आप धीरे-धीरे अपने ज्ञान का विस्तार करने लगेंगे तो आपका स्टॉक मार्केट का ज्ञान बढ़ता जायेगा।

  • Share Market में स्टॉक ब्रोकर इन्वेस्टर और एक्सचेंज के बीच एक मध्यस्थ या इंटरमीडियरी का काम करते हैं। एक इन्वेस्टर के तौर पर हम अपने स्टॉक ब्रोकर के माध्यम से Buy या Sell का आर्डर प्लेस करते हैं।
  • स्टॉक ब्रोकर हमारा ऑर्डर एक्सचेंज को भेजता है।
  • एक्सचेंज हमारे लिए buyer या seller जैसा भी हो, ढूंढता है। इसके बाद एक्सचेंज ऑर्डर को शेयर ब्रोकर को कंफर्म कर देता है।
  • इससे हमारा आर्डर कंप्लीट हो जाता है और क्रेता और विक्रेता में मनी एक्सचेंज हो जाती हैं।

शेयर मार्केट सेक्टर 

शेयर मार्केट को 11 सेक्टर में बाँटा गया है और ट्रेडर अपनी आवश्यकता के अनुसार इन सेक्टर में से किसी को चुन सकता है।

यह विभिन्न सेक्टर इस प्रकार हैं।

  • फाइनेंशियल
  • कस्टमर डिस्क्रिशनरी
  • उपयोगिताओं
  • सूचना प्रौद्योगिकी
  • हेल्थकेयर
  • इंडस्ट्री
  • संचार
  • एनर्जी
  • रियल एस्टेट
  • मैटेरियल्स
  • कंज्यूमर स्टेपल्स

शेयर मार्किट के साथ-साथ ये सेक्टर्स भी तेज़ी से ग्रोथ कर रहे हैं और यह अलग-अलग इंडस्ट्री को कवर करते हैं। इन सेक्टर में से किसी बेस्ट सेक्टर का चुनाव करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। लेकिन कुछ ऐसे सेक्टर हैं जिनमें निवेश करके आप अच्छा रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।

शेयर बाजार का विकास

जब हम शेयर बाजार के ग्रोथ की बात करते हैं, तो इसे कई दृष्टिकोणों से देखा जा सकता है। यह विकास संस्थाओं की हो सकती है जैसे:

  • बाजार में कुल ट्रेडर की संख्या
  • स्टॉकब्रोकिंग कंपनियों की संख्या, जो ट्रेडिंग सेवाएं प्रदान करती हैं।
  • नयी एक्सचेंज की संख्या
  • लेन-देन का मौद्रिक पैमाना
  • पूरे किये गए लेनदेन की संख्या
  • विभिन्न सूचकांकों का ओवरऑल मूल्यांकन

शेयर मार्केट के विकास को आंकने के लिए कुछ पैमाना भी हो सकते हैं।

Stock Market Volatility

Stock Market Volatility
Stock Market Volatility

शेयर बाजार में अस्थिरता आपको संबंधित स्टॉक या इंडेक्स से जुड़े जोखिम का आंकलन देती है। उच्च अस्थिरता का मतलब उच्च जोखिम है।

यदि स्टॉक या किसी भी इन्वेस्टमेंट प्रोडक्ट के वैल्यू में अधिक उतार-चढ़ाव होता है, तो यह एक अत्यधिक वोलेटाइल/अस्थिर स्टॉक माना जाता है। अगर बाजार (Share Market in Hindi) में इस तरह के बहुत उतार-चढ़ाव हो रहे हैं, तो इसका मतलब यह होगा कि स्टॉक में पर्याप्त मात्रा में जोखिम है और साथ ही ट्रेडर अपनी पूँजी को निवेश कर रहे हैं।

इस प्रकार, यदि आपकी जोखिम क्षमता अधिक है, तो आप ऐसे शेयरों में निवेश कर सकते हैं जो अत्यधिक वोलेटाइल हैं।

इसके साथ ही, यदि आप कम लेकिन लगातार रिटर्न में विश्वास करते हैं, तो आप अधिक स्थिर और कम वोलेटाइल शेयरों में निवेश करना चुन सकते हैं। किसी स्टॉक की वोलैटिलिटी का पता लगाने के लिए, उस स्टॉक के ऐतिहासिक रुझानों (Historical Trend) को विभिन्न चार्ट के माध्यम से देखें।

शेयर मार्केट रिटर्न

जैसे फिक्स्ड डिपॉजिट या गोल्ड के मामले में, कोई भी विशिष्ट रिटर्न प्रतिशत की गारंटी नहीं दे सकता है।

हालाँकि, यदि आप रिटर्न को केवल एक “आईडिया” प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप भारत में शेयर बाजार (Share Market in Hindi) से लगभग 15% से 18% तक रिटर्न की उम्मीद कर सकते हैं।

यह इस धारणा पर आधारित है कि आपने स्टॉक मार्किट में अपनी पूंजी निवेश करने से पहले एक अपेक्षित रिसर्च किया है या किसी पेशेवर से सलाह ली है। अगर आपके पास एक क्वालिटी पोर्टफोलियो है तो यह रेंज ज्यादा भी हो सकता है। जबकि, एक उद्देश्यहीन पोर्टफोलियो को नुकसान भी हो सकता है।

Market Value of Shares

शेयर मार्केट से संबंधित एक और महत्वपूर्ण Concept है और वह शेयर की मार्केट वैल्यू है।

जब कोई कंपनी IPO के माध्यम से पहली बार शेयर बाजार में सूचीबद्ध होती है, तो एक विशेष इशू प्राइस होता है जिसे IPO कंपनी के लिए काम करने वाले Under Right द्वारा स्थापित किया जाता है।

हालांकि, Secondary Market में समय के साथ शेयर के मूल्य में बहुत उतार-चढ़ाव होता रहता है। यह बिज़नेस की गतिशीलता, इंडस्ट्री या सेक्टर, इंडस्ट्री पर सरकारी नियामक, मैक्रो और माइक्रोइकॉनॉमिक प्रभावों, वैश्विक कारकों के साथ-साथ प्रबंधन की आंतरिक गति के साथ बहुत कुछ निर्भर करता है।

Read This– Indira Gandhi Matritva Sahyog Yojana

Read This– Deendayal Antyodaya Yojana In Hindi

उदाहरण के लिए,

Hindustan Unilever Ltd. , शेयर की कीमत वर्ष 1 January 2009 में 256.75 थी जबकि इसका 09 September 2021 को Price 2762.55 है।

इसी तरह, Bajaj Fiserv शेयर की कीमत वर्ष 1 January 2009 में 60.15 पर था और 01 September 2021 को Price 17263.50 है।

इसका एक और तरीका है।

Suzlon Energy. , शेयर की कीमत वर्ष 1 January 2008 में 459.75 थी जबकि इसका 14 September 2021 को Price 6.50 है।

इसी तरह, RCOM शेयर की कीमत वर्ष 1 January 2008 में 844.00 पर था और 14 September 2021 को Price 3.10 है।

Share Market Timing in Hindi

जब आप शेयर बाजार (Share Market in Hindi) में ट्रेड करते हैं, तो कुछ बातों से अवगत होना आवश्यक है:

  • लेनदेन की तारीख।
  • सेटलमेंट की तारीख।

उदाहरण के लिए, यदि आपने डिलीवरी ट्रेड के रूप में मंगलवार, 1 मार्च 2005 को इंफोसिस के 100 शेयर खरीदते है।

फिर, एक T + 2 (ट्रेडिंग डे + 2 कार्य दिवस) सेटलमेंट साइकिल में ट्रेड को प्लेस करना होगा।

इसका मूल रूप से तात्पर्य है कि आपके द्वारा खरीदे गए शेयर 2 ट्रेडिंग कार्य दिवस के बाद आपके डीमैट खाते में दिखाई देंगे यानी 3 मार्च 2005 (ये मान कर चलें की इन तिथियों के बीच कोई स्टॉक मार्केट छुट्टियां नहीं हैं)।

किसी समय पर ट्रेड को प्लेस करने के लिए T +5 (ट्रेडिंग डे + 5 कार्य दिवस) का समय लगता था, लेकिन ऑपरेशनल प्रक्रियाओं सुधार और टेक्नोलॉजी में प्रगति के साथ, अब यह T + 2 दिनों में दिया जाता है।

याद रखें, आपको इन सेटलमेंट साइकिल से सावधान रहना होगा, यदि आप कोई एक ऑर्डर डाल रहे हैं जिसके लिए आपको वास्तव में एक शेयर की आवश्यकता होती है और फिर इसे अपने डीमैट खाते में जमा किया जाता है।

उदाहरण के लिए, यदि आप एक इंट्राडे आधारित ट्रेड दे रहे हैं और आप दिन के अंत तक अपनी पोजीशन को बंद / बाहर निकलने जा रहे हैं, तो उस मामले में – कोई सेटलमेंट नहीं होगा।

जहां तक ट्रेडिंग अवधि का संबंध है, माना जाता है कि एक्सचेंज के आधार पर एक अलग-अलग अवधि होती है।

उदाहरण के लिए, BSE या बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के लिए, ट्रेडिंग अवधि हर कारोबारी दिन 9:15 से 3:39 बजे के बीच होता हैं, जबकि NSE  टाइमिंग 9:15am से 3:30 pm के बीच है।

[wpdatatable id=1]

इसे भी पढ़ेंः– Motivational Status in hindi

Read This :- Bhai Behan shayari in Hindi

शेयर मार्केट खुलने का समय 

शेयर बाजार सभी कार्यदिवस पर सुबह 09:15 AM में ट्रेडिंग के लिए नियमित आधार पर खुलता है।

हालाँकि, कुछ समयसीमाएँ हैं जिनसे आपको अवगत होना आवश्यक है। ऑर्डर एंट्री और बदलावों के लिए प्रातः 09:00 बजे से प्रे-ओपनिंग सेशन होता है जो सुबह 09:08 बजे तक रहता है।

और इससे पहले 08:45 AM से 09:00 AM के बीच ब्लॉक डील सेशन होता है। इन 15 मिनटों के दौरान, दो पक्षों के बीच डील को ब्लॉक किया जाता हैं जहां लेनदेन का आकार न्यूनतम ₹5 लाख शेयरों या न्यूनतम मूल्य ₹5 करोड़ होता है।

इन सौदों का विवरण स्टॉकब्रोकर द्वारा ट्रेडिंग सत्र के अंत में अपने ट्रेडिंग ग्राहकों को दिया जाता है।

इस पर अधिक जानकारी विश्लेषण के बाद में दिया गया है।

शेयर मार्केट बंद होने का समय

जहां तक नियमित ट्रेडिंग सत्र का सवाल है, शेयर बाजार दोपहर 03:30 बजे बंद हो जाता है।

हालाँकि, इस मामले में भी कुछ आवश्यक जानकारी हैं जिनसे आपको अवगत होना चाहिए। जैसे सुबह के सत्र के मामले में, दोपहर में एक ब्लॉक डील सेशन होता है, जो दोपहर 02:05 बजे से 2:20 बजे के बीच होता है।

इसके अलावा, अपराह्न 03:30 बजे से 03:40 बजे के बीच एक क्लोजिंग सेशन के साथ-साथ शाम 03:40 से शाम 04:00 बजे के बीच एक कंसोलिडेशन सेशन भी है।

Share Market Holidays in Hindi

शेयर बाजार आम तौर पर सार्वजनिक अवकाश और छुट्टियों पर बंद होता है जो राज्य या केंद्रीय चुनाव आदि पर आधारित होते हैं।

Holidays for the calendar year 2021

Sr. No. Date Day Description
1 26-Jan-2021 Tuesday Republic Day
2 19-Feb-2021 Friday Chatrapati Shivaji Jayanti
3 11-Mar-2021 Thursday Mahashivratri
4 29-Mar-2021 Monday Holi
5 01-Apr-2021 Thursday Annual Bank Closing
6 02-Apr-2021 Friday Good Friday
7 13-Apr-2021 Tuesday Gudi Padwa
8 14-Apr-2021 Wednesday Dr.Baba Saheb Ambedkar Jayanti
9 21-Apr-2021 Wednesday Ram Navami
10 13-May-2021 Thursday Id-Ul-Fitr (Ramzan ID)
11 26-May-2021 Wednesday Buddha Pournima
12 21-Jul-2021 Wednesday Bakri Id
13 16-Aug-2021 Monday Parsi New Year
14 19-Aug-2021 Thursday Moharram
15 10-Sep-2021 Friday Ganesh Chaturthi
16 15-Oct-2021 Friday Dussehra
17 19-Oct-2021 Tuesday Id-E-Milad
18 05-Nov-2021 Friday Diwali-Balipratipada
19 19-Nov-2021 Friday Gurunanak Jayanti

The holidays falling on Saturday / Sunday are as follows:

Sr. No. Date Day Description
1 25-Apr-2021 Sunday Mahavir Jayanti
2 01-May-2021 Saturday Maharashtra Day
3 15-Aug-2021 Sunday Independence Day
4 02-Oct-2021 Saturday Mahatma Gandhi Jayanti
5 25-Dec-2021 Saturday Christmas

Market Timings

Trading on the Interest Rate Futures segment takes place on all days of the we

आप विभिन्न इंडेक्स के लिए उपरोक्त टेबल से पता लगा सकते हैं कि शेयर बाजार आज बंद है या नहीं।

इसे भी पढ़ेंः– NPS से आंशिक वापसी के नियम

इसे भी पढ़ेंः– Life insurance

Participants in Share Market

शेयर बाजार के ओवरऑल मैनेजमेंट में कई पार्टिसिपेंट हैं, जिनमें प्रत्येक इकाई अपने कार्य को पूरा करती है। आइए देखें कि स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है:

Share Market Regulators

हमारे देश में बैंकिंग सेक्टर को RBI (भारतीय रिज़र्व बैंक) द्वारा नियंत्रित किया जाता है, इसी तरह भारतीय शेयर बाजार को सेबी द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

SEBI Ka Full Form सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया होता है।

इस रेगुलेटरी बॉडी का सबसे पहला काम, निवेशकों के बीच शेयर मार्केट को बढ़ावा देने और विकसित करते हुए शेयर मार्केट इन्वेस्टमेंट के लिए अनुकूल और सुरक्षात्मक वातावरण प्रदान करना है।

सेबी की स्थापना, सेबी एक्ट 1992 के अनुसार की गई थी।

जिसे कानूनी अधिकार क्षेत्र के तहत रखने के लिए स्थापित किया गया था। भारत के कुछ अन्य महानगरों में भी आज मौजूद है और इसका मुख्यालय मुंबई में है।

अजय त्यागी सेबी के वर्तमान अध्यक्ष हैं।

मुख्य रूप से, सेबी का कार्य शेयर बाजार के नियम तय करने है जिससे बाजार सही ढंग से काम कर सके।

Share Market Exchange

विभिन्न शेयर मार्किट (Share Market in Hindi) एक्सचेंज हैं जो संभावित निवेशकों के लिए अलग-अलग निवेश और ट्रेडिंग विकल्प प्रदान करते हैं। उनमें से कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं:

  • NSE/ Nifty 50
  • BSE/ Sansex

NSE/Nifty 50 क्या हैं ? What is NSE/Nifty 50 in Hindi

NIFTY 50 सेंसेक्स की भांति एक इंडेक्स ही हैं। NIFTY 50 , NSE (National Stock Exchange) पर लिस्टेड 50 सबसे बड़ी कंपनियों का प्रतिनिधित्व करता है। इन 50 बड़ी कंपनियों का ट्रेंड ही हमें NSE के Stocks की तेजी और मंदी का अनुमान देता है।

NSE या नेशनल स्टॉक एक्सचेंज भारत में सबसे बड़ा एक्सचेंज है। इसे वर्ष 1992 में शामिल किया गया था और वास्तव में यह भारत में पहला एक्सचेंज था। यह भौतिक शेयरों के उपयोग के बिना स्क्रीन-आधारित इलेक्ट्रॉनिक ट्रेड प्रदान करता था।

NSE पर कुल 1696 कंपनियां सूचीबद्ध हैं। लेकिन टॉप 50 कंपनियों को प्रमुख रूप से ट्रेडिंग और ऑर्डर प्लेसमेंट के लिए उपयोग किया जाता है।

इंडेक्स निफ्टी 50 एनएसई के तहत सबसे प्रमुख इंडेक्स में से एक है। एनएसई का मौद्रिक साइज़ (Monetary Size) 1.5 ट्रिलियन डॉलर के करीब है जो एनएसई को दुनिया के टॉप 10 एक्सचेंजों में से एक बनाता है।

यदि आप NSE सूचीबद्ध कंपनियों में निवेश करना चाहते हैं, तो इक्विटी ट्रेडिंग के अलावा, आप कमोडिटी, करेंसी, डेरिवेटिव आदि जैसे अन्य सेगमेंट में ट्रेड कर सकते हैं।

[wpdatatable id=1]

क्विक फैक्ट: NSE हर दिन 500 मिलियन से अधिक के ऑर्डर संसाधित करता है और 99.99% का अपटाइम होने का दावा करता है।

BSE/ Sensex क्या हैं – What is BSE/ Sensex in Hindi

एक नए निवेशक के तौर पर आपको सेंसक्स के बारे में भी जानकारी होनी आवश्यक है। सेंसेक्स मुख्य रूप से एक सूचकांक या इंडेक्स है जो बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) को दर्शाता है। सेंसेक्स पूरे BSE मार्केट का प्रतिनिधित्व करता है। सेंसेक्स 1986 में अस्तित्व में आया था।

यह निवेशकों को Share Market के रुझान का एक अंदाजा देता है जैसे कि शेयर मार्केट ऊपर जा रहा है या नीचे। सेंसेक्स BSE की 30 सबसे बड़ी मार्केट केपीटलाइजेशन वाली कंपनियों से मिलकर बना होता है। ये कंपनियां भारतीय अर्थव्यवस्था का प्रतिनिधित्व करती हैं।

बीएसई या बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज दुनिया में सबसे पुराने स्टॉक एक्सचेंजों में से एक है और वास्तव में, पहला एशियाई स्टॉक एक्सचेंज है।

इसे वर्ष 1855 में वापस लॉन्च किया गया था और अंततः 1957 में भारत सरकार द्वारा ईसे मान्यता प्राप्त हुई थी। कुल मिलाकर, इस एक्सचेंज में 5749 कंपनियां सूचीबद्ध हैं और ट्रेडर इन सूचीबद्ध कंपनियों में इस एक्सचेंज पर ट्रेड करते हैं।

इन 5000+ सूचीबद्ध कंपनियों में से, सेंसेक्स इंडेक्स को एक घटक के रूप में उपयोग किया जाता है जो मार्केट के मूवमेंट को दर्शाता है। इस निगरानी के लिए सेंसेक्स कुल सूचीबद्ध कंपनियों में से 30 का उपयोग करता है।

इसे भी पढ़ेंः– Life insurance

इसे भी पढ़ेंः– What is bitcoin mining?

बीएसई की कुल मार्केट कैप ₹175+ लाख करोड़ है।

बीएसई सेंसेक्स 6 माइक्रोसेकंड के ट्रेड की औसत गति के साथ दुनिया में सबसे तेज़ एक्सचेंज होने का दावा करता है।

शेयर बाजार इंडेक्स

जैसा कि ऊपर बताया गया है, प्रत्येक एक्सचेंजों में 1000 तक सूचीबद्ध कंपनियां शामिल होती है। जाहिर है, बाजार का औसतन मूल्य प्राप्त करने के लिए इन सभी कंपनियों को ट्रैक करना असंभव है।

यही कारण है कि शेयर बाजार में विभिन्न एक्सचेंजों के तहत अलग-अलग सूचकांक हैं जो निवेशकों और ट्रेडर को उस रुझान को समझने में मदद करते हैं जिसमें बाजार चल रहा है।

उदाहरण के लिए, सेंसेक्स और निफ्टी नामक सूचकांक हैं। इनमें से प्रत्येक सूचकांक कुछ कंपनियों के मौजूदा बाजार मूल्य के सारांश से बना है। ये कंपनियां यह सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों और डोमेन से आती हैं कि किसी विशेष कंपनी या व्यावसायिक क्षेत्र की ओर कोई झुकाव नहीं है।

एक शेयर बाजार (Share Market in Hindi) सूचकांक नीचे उल्लिखित निम्नलिखित तरीकों से सहायता करता है:

  • उन सभी कंपनियों को फ़िल्टर करना जो सभी कंपनियों को ट्रैक करने के बजाय गति को बना या तोड़ सकते हैं।
  • सूचकांक, बाजार के मानक के रूप में कार्य करते हैं। दूसरे शब्दों में, यदि आप एक समग्र स्तर पर इंडेक्स द्वारा प्रदान किए गए रिटर्न को हासिल कर लेते हैं, तो आप बाजार में बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।
  • सूचकांक ट्रेडर की भावना को यथासंभव समझने में मदद करता हैं।

भारतीय शेयर बाजार में कुछ सूचकांक सेंसेक्स, निफ्टी 50, निफ्टी BSE बैंकेक्स, BSE स्मॉल कैप, BSE एनर्जी इत्यादि हैं।

शेयर मार्केट टिप्स 

जब आप ट्रेड या निवेश करने के लिए शेयर बाजार में प्रवेश करते हैं, तो कुछ Tips For Share Market in Hindi हैं जिन्हें आपको याद रखना चाहिए:

  • Share Market in Hindi में मूलभूत जानकारी के लिए शेयर बाजार के यूट्यूब चैनल जैसे A Digital Blogger, ब्लॉग, शेयर मार्केट ऐप, स्टॉक मार्केट फ़िल्में आदि की सहायता ले।
  • शेयर बाजार कोर्स आदि का संदर्भ लें।
  • अपने ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म को नियमित रूप से अपडेट करें।
  • मार्जिन ट्रेडिंग का सावधानी से उपयोग करें।
  • अपने ट्रेडों पर नियमित रूप से स्टॉप लॉस का उपयोग करें।

मूल विचार यह है कि अपने जोखिमों को कम से कम रखें (हालाँकि, यह आपकी जोखिम क्षमता पर भी निर्भर करता है) और मुनाफे की संभावना को अधिकतम बनायें।

इन टिप्स के अलावा कुछ ओर शेयर मार्केट के टिप्स है जिनके बारे में नीचे चर्चा की गई है:

शेयर मार्केट कैसे सीखें?

Share Market in Hindi सीखने से पहले आपको यह जान लेना चाहिए कि शेयर मार्केट में उसी निवेशक को ट्रेड करना चाहिए जिसमें जोखिम उठाने की क्षमता हो।

हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि शेयर मार्केट में फायदे के साथ-साथ नुकसान भी होता है। शेयर मार्केट में निवेश के लिए समझ और स्ट्रैटजी के साथ-साथ धैर्य बेहद जरूरी है क्योंकि यह अच्छा रिटर्न कमाने का मूलमंत्र है। यदि आप इन बातों को ध्यान में रखते हैं तो ये आपको अच्छा रिटर्न तो देती ही है और इसके साथ-साथ आपके पैसे डूबने से बचाती हैं।

शेयर मार्केट की कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं जिनको ध्यान में रखकर ही आपको निवेश करना चाहिए, जैसे कि:

  1. अपने फाइनेंशियल गोल्स को ध्यान में रखें।
  2. शेयर मार्केट में निवेश करने के अलग-अलग तरीकों को समझें।
  3. उतना ही जोखिम उठाएं जितनी आप में जोखिम उठाने की क्षमता हो।
  4. एडवाइजरी से सलाह लें।
  5. फाइनेंशियल सेगमेंट के बारे में पूरी तरह से जानकर उसमें निवेश करें।

यदि आप ऊपर बताई बातों को दिमाग में रखकर ट्रेड करेंगें तो आप अच्छा लाभ कमा सकते हैं।

शेयर मार्केट में निवेश कैसे करें?

How to invest in share market in hindi
Invest in share market

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए सबसे पहले आपका डीमैट खाता होना आवश्यक है। डीमैट खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज़ होते हैं जिन्हें जमा करना जरूरी होता है।जिसमें पैन कार्ड एक महत्त्वपूर्ण दस्तावेज़ है, इसके बिना आप आगे की प्रक्रिया को पूरा नहीं कर सकते।

डीमैट खाता खोलने के बाद अपने लिए एक स्टॉकब्रोकर को चुनें। ध्यान रखें कि हर स्टॉकब्रोकर अलग-अलग सर्विसेज प्रदान करता है। इसलिए स्टॉक ब्रोकर पर रिसर्च करने के बाद ही उपयुक्त स्टॉक ब्रोकर का चयन करें।

निवेश करने के लिए सबसे पहले यह तय करें कि आपको किस सेगमेंट में, कितने समय तक तक निवेश करना है। इतना ही नहीं, आपको निवेश करने के लिए कैपिटल और जोखिम क्षमता को भी ध्यान में रखना होगा। एक बार जब आप स्टॉक मार्किट में प्रवेश लेते हैं तो आपको यह भी सुनिश्चित करना होगा कि आपको कब शेयर खरीदने है और कब बेचने हैं।

अपने ऑर्डर प्लेस करने के लिए आप कुछ ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का भी उपयोग कर सकते हैं। आखिर में, यदि Share Market in Hindi में निवेश करते हुए आपको नुकसान भी हो तो उससे घबराएं नहीं बल्कि अपनी गलती से सीख लें।

ट्रेडिंग करते हुए स्टॉप लॉस और टारगेट प्राइस रूल को फॉलो करें। इससे नुकसान की सम्भावना कम हो जाती है।

Bull Market और Bear Market क्या होता हैं?

Bull Market – Market में Bull run तब माना जाता हैं जब शेयर मार्केट बढ़ रहा हो या बढ़ने वाला हो। Bull Market में स्टॉक/शेयर्स के मूल्य में इजाफा होता है। यहां तक कि खराब कंपनीयो के शेयर के दाम भी बुल मार्केट में बढ़ सकते हैं।

Bear Market – जब मार्केट तेजी को छोड़कर मंदी की ओर बढ़ने लगे तब Bear Market कहा जाता है। इस समय अधिकतर शेयर्स में, सेंसेक्स और निफ्टी में अच्छी-खासी गिरावट देखी जाती है। बियर मार्केट में निवेश करना एक अच्छा विकल्प हो सकता है क्योंकि यहां स्टॉक सस्ते में मिल जाते हैं। बियर मार्केट इकोनामी की खराब स्थिति को भी इंगित करता हैं।

Share Market Books in Hindi:

आप उपरोक्त बताई बातों के अलावा शेयर बाजार की किताब पढ़ कर भी जानकारी हासिल कर सकते हैं। बाजार में शेयर बाजार से संबंधित बहुत सारी किताबें हैं, जो आपको शेयर बाजार में निवेश करने में सहायक होगी।

निम्नलिखित कुछ चुनिंदा किताबों की सूची है:

  1. द इंटेलिजेंट इन्वेस्टर
  2. VALUE INVESTING AND BEHAVIORAL FINANCE: INDIAN STOCK MARKET
  3. An Easy-to-understand and Practical Guide for Every Investor
  4. How to Make Money Trading with Candlestick Charts
  5. How to make money INTRADAY TRADING

शुरुआती ट्रेडर ये गलतियाँ ना करें:

नए ट्रेडर अन्य ट्रेडर्स की देखादेखी में बहुत सी गलतियां कर बैठते हैं।

इसलिए निवेशकों को कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए, जैसे कि:

  • मार्केट की जानकारी के बिना ट्रेडिंग ना करें।
  • अन्य ट्रेडर्स को फॉलो ना करें।
  • स्टॉप लॉस और टारगेट प्राइस का पालन करें।
  • एक्सपोज़र का ज्यादा उपयोग ना करें।
  • किसी रणनीति बिना ट्रेडिंग ना करें।
  • अफवाहों से बचें और हर व्यक्ति से सलाह ना लें।

यदि आप ये गलतियां करने से बच गए, तो आप जल्द ही शेयर मार्केट में विशेषज्ञ बन जाएंगें।

[wpdatatable id=1]

शेयर मार्केट में निवेश करने के फायदे 

आपको जानकर हैरानी होगी कि Share Market in Hindi में निवेश करने पर आपको बैंक या फिक्स्ड डिपॉजिट से अधिक रिटर्न मिलता है।

यदि आप शेयर बाजार के माध्यम से अपनी पूंजी निवेश करना चुनते हैं, तो निम्नलिखित कुछ लाभ बताये गए हैं:

  • आपके निवेश पर लाभ पोर्टफोलियो गणना करने के बाद मिलता है
  • प्राप्त रिटर्न के अलावा संभावित डिविडेंड इनकम आय।
  • महंगाई के खिलाफ सुरक्षा।
  • अपने निवेश की दिशा में आसानी।
  • विभिन्न ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से खरीदना और बेचना आसान हो जाता है।

इसके अलावा, शेयर मार्केट में निवेश करने के कुछ अन्य लाभ भी है जिन पर हम नीचे चर्चा करेंगे।

चलिए, शुरू करते हैं।


शेयर बाजार से करोड़पति बनें

हमने कई लोगों को कहते सुना है कि शेयर मार्केट में बस नुकसान होता है, इससे मुनाफा नहीं कमाया जा सकता। लेकिन, यह अवधारणा बिलकुल गलत है। एक दिन में तो कोई करोड़पति नहीं बन सकता, लेकिन सही स्टॉक और सही टिप्स का पालन करके आप कम समय में पैसा कमा सकते हैं।

शेयर मार्किट से करोड़पति बनने के लिए सबसे जरुरी है कि बाजार पर भरोसा बनाए रखें। हमेशा शेयर की कीमत को ही महत्व ना दें बल्कि कंपनी की परफॉरमेंस पर भी ध्यान दें।जैसा कि आपको पता है शेयर मार्किट में बहुत जोखिम है, इसलिए रिसर्च करने के बाद ही मार्केट में इन्वेस्ट करें।

डिविडेंट प्रदान करने वाली कंपनियों पर पैसा लगाना बेहतर है, इसके विपरीत उन कंपनियों से दूर रहे जिनपर कर्ज हो।

सही रणनीति का चयन करें और मार्केट टिप्स को फॉलो करें। यदि आप इन बातों को दिमाग में रखकर निवेश करते हैं तो आप जल्द से जल्द करोड़पति बन सकते हैं।

शेयर मार्केट में पैसा कैसे कमाए

शेयर मार्केट में निवेश करके पैसा कमाने के लिए कुछ बुनियादी बातों का होना जरुरी है जैसे कि:

  1. धैर्य बनाए रखें।
  2. शेयर मार्केट की पूरी जानकारी रखें
  3. एक्स्ट्रा पैसे का ही उपयोग करें.
  4. निवेश करने से पहले कंपनी की रिसर्च करें
  5. टेक्निकल इंडिकेटर उपयोग करें
  6. इसे सट्टा न समझकर बिज़नेस समझें

इन बातों को ध्यान में रखकर निवेश करें और अधिक से अधिक पैसा कमाए।

शेयर बाजार में करियर बनाए

आज देश के हर शहर में शेयर मार्केट है और इन सभी स्टॉक एक्सचेंजों में अच्छी-खासी ट्रेडिंग भी हो रही है। शेयर मार्केट में आप कई तरह से करियर बना सकते हैं जैसे कि: Economist, Accountant, Financial Analyst , Invest Analyst, Capital Market Analyst, Future Planners, Equity Analyst & Many More .

इसके अलावा, शेयर मार्केट में सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति होता है स्टॉक ब्रोकर। यह कमीशन लेकर किसी व्यक्ति या संस्था के लिए सिक्योरिटीज खरीदने का काम करता है।  स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए शेयर मार्केट में रुचि होनी चाहिए। शेयर मार्केट के करियर में प्रॉफिट के साथ-साथ रिस्क भी है।

SHARE MARKET APPILICATIONS

कई शेयर बाजार ऐप हैं जो आपके ट्रेड को ऑर्डर देने या प्लेस करने में सहायता कर सकते हैं। स्टॉक मार्केट में आपके निवेश का ध्यान रखने के लिए अधिकांश स्टॉकब्रोकर संबंधित मोबाइल ट्रेडिंग ऐप प्रदान करते हैं।

निम्नलिखित कुछ टॉप मोबाइल ट्रेडिंग ऐप के नाम बताए गए हैं:

  • Stock Note (Samco Securities)
  • मोतीलाल ओसवाल मोबाइल ऐप
  • HDFC सिक्योरिटी ऐप
  • IIFL मार्केट

ये मोबाइल ट्रेडिंग ऐप आपको निम्नलिखित सुविधाएँ प्रदान करते हैं:

  • ऑर्डर देने और पूरा करने की सुविधा
  • चार्ट विश्लेषण
  • टेक्निकल इंडिकेटर
  • मार्केट ट्रेंड और न्यूज़
  • रिसर्च, टिप्स और सिफारिश
  • पेमेंट ट्रांसफर

निष्कर्ष

शेयर बाजार एक ऐसा स्थान है जहां शेयरों की खरीद-बिक्री होती है और इस लेनदेन को पूरा करने के लिए बिचौलियों की सहायता ली जाती है। यह एक बहुत ही वोलेटाइल या अस्थिर बाजार है।

शेयर बाजार को सेबी द्वारा नियंत्रित किया जाता है। यह विभिन्न एक्सचेंज जैसे BSE, NSE आदि के माध्यम से काम करता है।

यदि आपके पास पर्याप्त जमा पूँजी और जोखिम लेने की क्षमता है तो शेयर बाजार आपको अच्छे रिटर्न के साथ निवेश करने के लिए एक बेहतर प्लेटफॉर्म है।

साथ में यह भी ध्यान रखें की इसमें जोखिम भी बहुत है तो बिना सही जानकारी और परामर्श के शेयर बाजार में प्रवेश न करें।

इस पोस्ट में Share Market in Hindi में सभी पहलुओं पर चर्चा करने की कोशिश की है , यदि आपको शेयर बाजार से संबंधित किसी भी प्रकार के प्रश्न है तो नीचे दिए कमेंट बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दर्ज करें।

उम्मीद है आपको Share Market in Hindi से जुड़ी सभी जानकारी पसंद आयी होगी।

मार्केट यदि आप भी ट्रेडिंग की शुरुआत करना चाहते हैं, तो आपको बस एक डीमैट खाता खोलना होगा।

आप नीचे दिए गए फॉर्म में अपना विवरण दर्ज करें और आपके लिए कॉलबैक व्यवस्थित किया जाएगा:

[wpdatatable id=1]

One thought on “Share Market in Hindi

  1. I do not even know how I ended up here, but I thought this post was great. I don’t know who you are but certainly you’re going to a famous blogger if you aren’t already 😉 Cheers!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *